advertisment

Thursday, 4 August 2016



कंपनी बाग

अब हमें कंपनी बाग जो म्युनिसिपल गार्डन भी कहा जाता है जाना था । हमने पार्किंग से गाड़ी उठाई और चल दिए कंपनी बाग की ओर । कंपनी बाग का रास्ता लाइब्रेरी से होकर जाता है । और लाइब्रेरी से कंपनी बाग के लिए रिक्शा भी मिल जाती है । परंतु उनका किराया ज्यादा होता है । दूसरा हमें गाड़ी लेने फिर पिक्चर पैलेस आना पड़ता । इसलिए हमने गाड़ी से जाने का फैसला किया । गाड़ी को लाइब्रेरी ले जाने का रास्ता वही है जो मसूरी आते हुये मैंने बताया था कि सड़क दो तरफ चली जाती है , एक पिक्चर पैलेस की तरफ दूसरा लाइब्रेरी की तरफ । इसी रास्ते से हम लाइब्रेरी चौक पहुच गए । लाइब्रेरी चौक , एक रास्ता देहरादून की तरफ से आता है जिससे हम आये थे , दूसरा मॉल रोड की तरफ , तीसरा चकराता , और चौथा कंपनी बाग़ , केम्पटी फाल , गंगोत्री की तरफ जाता है । इसलिए इस चौथे रास्ते पर सीजन में जाम की स्तिथि रहती है । लेकिन जाते हुए हमें जाम नहीं मिला । हम आराम से कंपनी बाग़ तक पहुँच गए । लेकिन वहाँ पार्किंग की जगह बहुत कम है , ट्रैफिक ज्यादा । गाड़ी पार्क करने में आधा घण्टा लग गया । खैर गाड़ी पार्क करके हम गेट पर पहुचे और टिकट लिए । हम लगभग दो बजे अंदर पहुचे । कंपनी बाग को एक सुन्दर पिकनिक स्पॉट भी कह सकते हैं । बरसात में ये और ज्यादा ख़ूबसूरत लग रहा था । सब यहाँ आकर खुश दिख रहे थे । जाते ही सब सुन्दर फूलों और पेड़ों के साथ फोटो खीचने में लग गए । थोड़ी देर मौज मस्ती के बाद सबको भूख लगने लगी । अंदर ही कुछ रेस्टोरेंट बने हुए है । एक रेस्टोरेंट वाले ने रेस्टोरेंट के बहार ही प्लास्टिक की कुर्सी मेज डाल कर खाने पीने का इंतजाम करा हुआ था । हम वहां बैठ गए । परंतु मजा सा नहीं आ रहा था । इसलिए खाने का ऑर्डर नहीं दिया । अनंत और पुलकित सुलभ शौचालय चले गए थे । जब वो वापस आये तो उन्होंने कहा कि यहाँ एक कैफेटेरिया है । जो बढ़िया लग रहा है । हम उठ लिए । और कैफेटेरिया में आ गए । कैफेटेरिया काफी अच्छा बना था । और महंगा भी नहीं था । हम 5 लोगो का खाना 500 रु में हो गया । सेल्फ सर्विस थी । खाना लेने के लिए अनंत और पुलकित चले गए । इतने मैने उनका वाशरूम इस्तेमाल किया और फ्रेश हो गया । खाना खाते हुऐ हमने देखा की कैफेटेरिया के ऊपर ही वेक्स म्युजियम है ।इसका बोर्ड हमने कंपनी बाग़ के गेट पर भी देखा था ।